Breaking News

लोकसभा चुनाव 2024- पहला चरण का मतदान आज 21 राज्यों की 102 सीटों पर होगा मतदान, 1625 प्रत्याशी मैदान में, 16.63 करोड़ वोटर

लोकसभा चुनाव 2024- पहला चरण का मतदान आज 21 राज्यों की 102 सीटों पर होगा मतदान, 1625 प्रत्याशी मैदान में, 16.63 करोड़ वोटर

लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान आज होगा। इस चरण में 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश की 102 सीटों के लिए मतदाता वोट डालेंगे। इसके साथ ही कुल 1625 उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद हो जाएगी। इससे पहले चुनाव आयोग ने पहले चरण के लिए विशेष तैयारियां की हैं। बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं के लिए पिक एंड ड्रॉप सुविधा दी जाएगी। वहीं, 50 प्रतिशत से अधिक मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग की जाएगी।

लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान आज होगा। इस चरण में 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश की 102 सीटों के लिए मतदाता वोट डालेंगे। इसके साथ ही कुल 1625 उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद हो जाएगी। इससे पहले चुनाव आयोग ने पहले चरण के लिए विशेष तैयारियां की हैं। बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं के लिए पिक एंड ड्रॉप सुविधा दी जाएगी। वहीं, 50 प्रतिशत से अधिक मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग की जाएगी।

आइये जानते हैं कि पहले चरण के चुनाव में क्या-क्या खास है?
7 बजे शुरू होकर शाम 6 बजे तक मतदान
आम चुनाव 2024 के पहले चरण के लिए मतदान 19 अप्रैल, 2024 को है। 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 102 सीटों के लिए मतदान होगा। इसमें सभी चरणों के मुकाबले सीटों की संख्या सबसे अधिक है। मतदान सुबह 7 बजे शुरू होकर शाम 6 बजे समाप्त होगा। हालांकि, चुनाव आयोग ने यह भी कहा है कि मतदान बंद होने का समय संसदीय क्षेत्र के अनुसार अलग हो सकता है। लोकसभा सीटों के साथ अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम की कुल 92 विधानसभा सीटों के लिए भी वोट डाले जाएंगे।

16.63 करोड़ से अधिक मतदाता
मतदान के लिए 18 लाख से अधिक मतदान अधिकारी तैनात किए गए हैं। पहले चरण के मतदान के लिए 1.87 लाख मतदान केंद्र बनाए गए हैं। 16.63 करोड़ से अधिक मतदाता चुनाव मैदान में उतरे 1625 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे। इन मतदाताओं में 8.4 करोड़ पुरुष, 8.23 करोड़ महिला और 11,371 अन्य मतदाता शामिल हैं। 35.67 लाख मतदाता ऐसे हैं, जो पहली बार वोट देंगे। इसके अलावा, 20-29 वर्ष आयु वर्ग के 3.51 करोड़ युवा मतदाता हैं।

कुल 1625 उम्मीदवार चुनाव मैदाम में
पहले चरण के चुनाव में कुल 1625 उम्मीदवार हैं। इनमें 1491 पुरुष उम्मीदवार और 134 महिला उम्मीदवार मैदान में हैं। मतदान और सुरक्षा कर्मियों को लाने-ले जाने के लिए 41 हेलीकॉप्टर, 84 विशेष ट्रेनें और लगभग 1 लाख वाहन काम पर लगाए गए हैं।

मतदाताओं के लिए खास सुविधाएं
102 संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में 85 वर्ष से अधिक उम्र के 14.14 लाख से अधिक पंजीकृत और 13.89 लाख दिव्यांग मतदाता हैं। इन्हें अपने घर से आराम से मतदान करने का विकल्प प्रदान किया गया है।

चुनाव आयोग ने बताया कि 85 वर्ष से अधिक और दिव्यांग मतदाताओं में से जो लोग मतदान केंद्रों पर आने का निर्णय लेते हैं, उन्हें पिक एंड ड्रॉप सुविधा, साइनेज, ईवीएम पर ब्रेल साइनेज, स्वयंसेवकों आदि जैसी सभी सुविधाएं प्रदान की जाएंगी। दिव्यांग मतदाता चुनाव आयोग के सक्षम एप के जरिए व्हीलचेयर सुविधाएं भी बुक कर सकते हैं।

पानी, शेड, शौचालय, रैंप, स्वयंसेवक, व्हीलचेयर और बिजली जैसी सुनिश्चित न्यूनतम सुविधाएं मौजूद हैं। ये कदम इसलिए उठाए गए हैं, ताकि बुजुर्ग और विकलांग व्यक्ति सहित प्रत्येक मतदाता को आसानी से अपना वोट डाल सकें।

102 संसदीय क्षेत्रों में स्थानीय थीम के साथ मॉडल मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं। 5000 से अधिक मतदान केंद्रों का प्रबंधन सुरक्षा कर्मचारियों सहित पूरी तरह से महिलाओं द्वारा किया जाएगा। वहीं 1000 से अधिक मतदान केंद्रों का प्रबंधन विकलांग व्यक्ति (पीडब्ल्यूडी) करेंगे।

सुरक्षा के लिए खास उपाय
आयोग ने चुनावों के शांतिपूर्ण और सुचारू संचालन के लिए कई निर्णायक कदम उठाए हैं। मतदान प्रक्रिया को सुरक्षित करने के लिए मतदान केंद्रों पर पर्याप्त रूप से केंद्रीय बलों की तैनाती की गई है। सभी मतदान केंद्रों पर माइक्रो ऑब्जर्वर की तैनाती के साथ-साथ 50 प्रतिशत से अधिक मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग की जाएगी।

361 पर्यवेक्षक मतदान से कुछ दिन पहले ही अपने निर्वाचन क्षेत्रों में पहुंच चुके हैं। वे अत्यधिक सतर्कता बरतने के लिए आयोग की आंख और कान के रूप में कार्य करते हैं। इसके अलाव कुछ राज्यों में विशेष पर्यवेक्षकों को तैनात किया गया है।

कुल 4627 उड़नदस्ते, 5208 सांख्यिकी निगरानी दल, 2028 वीडियो निगरानी दल और 1255 वीडियो देखने वाली टीमें मतदाताओं को किसी भी प्रकार के प्रलोभन से सख्ती से और तेजी से निपटने के लिए चौबीसों घंटे निगरानी रख रही हैं।

कुल 1374 अंतरराज्यीय और 162 अंतरराष्ट्रीय सीमा चौकियां शराब, ड्रग, नकदी और मुफ्त वस्तुओं के किसी भी अवैध आवाजाही पर कड़ी निगरानी रख रही हैं। समुद्री और हवाई मार्गों पर कड़ी निगरानी रखी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *